SHARE-MARKET-kya-hai-in-hindi

Image Source - CANVA | Image by - CANVA

दोस्तों, आज हम बात करने वाले है Share-Market क्या है? इसमें कैसे निवेश करे?  इसके अलावा आज हम Share Market के बारे में हर चीज जानेगे जैसे- Share-Market क्या है? इसमें कैसे निवेश करे?, शेयरों के भाव में उतार-चढ़ाव क्यों जाता है?, आखिर आप कैसे कर सकते हैं शेयर बाजार में निवेश की शुरूआत? मुझे उम्मीद है कि आज के बाद आपके Share-Market से जुड़े सभी प्रश्न हल होने वाले है। तो चलिए शुरू करते है आज की ये महत्वपूर्ण जानकारी :

जैसा कि हम जानते है कि शेयर का हिंदी में मतलब होता है हिस्सा और बाजार वो जगह होती है जहा हम चीज खरीदते है और कुछ लोग बाजार में चीज बेचते भी  है।
Share-Market एक बहुत ही risky जगह होती है क्युकि यहाँ invest करने में कुछ लोगो को बहुत ज्यादा लाभ होता है और वही कुछ लोगो को बहुत हानि का सामना भी करना पड़ता है और कई बार हानि इतनी बड़ी होती है लोग कंगाल भी हो जाते है।  

और कई बार लाभ इतना बड़ा होता है कि लोग करोड़पति भी बन जाते है। इस लिए पूरी जानकरी को एकदम ध्यान से पढ़े।

Share-Market एक ऐसी जगह है जहां किसी विशेष कंपनी के शेयर खरीदे या बेचे जा सकते हैं। यह किराने की दुकान के समान है जहां आप दुकानदार को उस वस्तु की कीमत देकर उस वस्तु को खरीदते हैं। Share-Market में, वस्तु का अर्थ होता है "एक कंपनी में शेयर" है। आप बस राशि का भुगतान करें और उस कंपनी में हिस्सा खरीदें।


आप जिस प्रकार जितना पैसे हिस्सा लगाकर Share खरीदते है आप उसी प्रकर उस कंपनी में कुछ हिस्से के मालिक बन जाते है। जिसका मतलब है कि आपने उस कंपनी के कुछ प्रतिशत share हासिल लिए है और कुछ प्रतिशत के उस हिस्से के मालिक बन गए है। 
और जिसका Share-Market में साफ़ साफ़ मतलब होता है कि यदि भविष्य में कंपनी को लाभ होगा तो आपको आपके द्वारा लगाए गए पैसो से ज्यादा आपको मिलेगा और मतलब आपको लाभ होगा। 

यदि भविष्य में कंपनी  को घाटा हुआ तो मतलब आपको भी नुकसान होगा और आपको एक भी पैसे नहीं मिलेंगे। ये ठीक वैसा है जैसा मैंने आपको पहले बताया है। लाभ हुआ तो करोड़-पति और घाटा हुआ तो कंगाल। 

उदाहरण के लिए: अगर किसी कंपनी ने कुल 20 लाख शेयर Issue किये हैं और आपने उसमें से 2 लाख Shares खरीद लिए हैं तो आप उस कंपनी के 10% हिस्सेदार बन जाते हैं| आप जब चाहें तब इन Share को Stockmarket में ब्रोकर्स की मदद से आसानी से बेच सकते हैं|

Stock Market या Share market में विदेशी निवेशक भी काफी निवेश कर रहे है क्युकि उन्हें लगता है कि उन्हें भी बहुत लाभ कमाने का अवसर मिलेगा। 

share को Stock Exchange के माध्यम से ख़रीदा और बेचा जाता हैं भारत में दो Main Stock Exchange है   

1) BSE (Bombay Stock Exchange) 

2) NSE (National Stock Exchange)

जो ब्रोकर होते है वो इन Stock Exchange के सदस्य होते है और हम इन्ही में माध्यम से Share-Market में निवेश करते है। ये आपको शेयर मार्किट में शेयर खरीदने के लिए अच्छी कंपनी बताते है। लेकिन ये कुछ कमीशन लेते है। 

यदि आप ऐसा सोच रहे है कि आखिर मैं ब्रोकर्स को पैसा क्यों दू? मैं स्वयं Share-Market में जाकर शेयर खरीद लूंगा। तो रुकिए !! आप ऐसा नहीं कर सकते है हम हमेशा ट्रेडिंग ब्रोकर्स के माध्यम से ही कर सकते है।

सभी लिस्टेड कंपनी के शेयरों का मूल्य BSE/NSE में दर्ज होता है. सभी  लिस्टेड कंपनियों के शेयरों का मूल्य उनकी लाभ कमाने की क्षमता के अनुसार घटता-बढ़ता रहता है. सभी Share-Market का नियंत्रण Securities and Exchange Board of India (SEBI) के हाथ में होता है।
SEBI की अनुमति के बाद ही कोई कंपनी शेयर बाजार (Stock Market) में लिस्ट होकर अपना Initial Public Offering (IPO) जारी कर सकती है.

अब हम BSE, NSE, SEBI के बारे में बात कर लेते है आखिर ये कंपनी/संस्था क्या है और इनके क्या काम है?


BSE [Bombay Stock Exchange]
BSE की स्थापना 1875 में की गई थी। BSE एशिया का पहला और सबसे तेज़ Stock exchange है, जो 6 माइक्रो सेकंड और भारत के प्रमुख exchange group में से एक है।

पिछले 143 वर्षों में, BSE ने भारतीय Corporate sector के विकास को easy बनाने के लिए इसे एक कुशल पूंजी जुटाने का प्लेटफॉर्म बनाया गया है। लोकप्रिय रूप से देखा जाये तो इसे BSE के रूप में जाना जाता है, 1875 में 'The Native Share & Stock Brokers' Association' के रूप में इसकी स्थापना की गई थी। 

2017 में BSE भारत का पहला listed stock exchange बन गया। BSE देश में पहला stock exchange बना जिसे सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट रेगुलेशन एक्ट, 1956 के तहत स्थायी मान्यता दी गई थी। इसमें 6000 से ज्यादा कंपनी लिस्टेड है। Market capitalization के अनुसार दुनिया में इसकी 10th market है।

NSE [National Stock Exchange National]

Stock Exchange भारत का सबसे बड़ा और वर्तमान तकनिकी रूप से leading stock exchange है। NSE  मुंबई में स्थित है। इसकी स्थापना 1992 में हुई थी। कारोबार के लिहाज से देखा जाये तो NSE विश्व का तीसरा सबसे बड़ा stock exchange है। 

NSE ने 1994 में electronic screen-based ट्रेडिंग, इंडेक्स ट्रेडिंग  और 2000 में इंटरनेट ट्रेडिंग की शुरुआत की, जो भारत में इस तरह का काम करने वाला पहला कारोबार था। NSE की इंडेक्स- निफ्टी 50 का उपयोग बैरोमीटर के रूप में लगभग पुरे विश्व के बाज़ारो की तुलना में बहुत ज्यादा किया जाता है। 

इसके VSAT terminal भारत के लगभग 322  शहरों तक फैले हुए हैं।   इसमें 1600 से ज्यादा कंपनी लिस्टेड है। Market capitalization के अनुसार दुनिया में 11th market है। डेली टर्नओवर के हिसाब से ये BSE से बड़ा है।
वर्तमान में श्री विक्रम लिमये NSE के Director and CEO हैं। NSE में पूरी तरह से Integrated बिजनेस मॉडल के आधार पर काम करता है। जिसमें हमारी Exchange listing, Trading Services, Clearing and Settlement Services, Index, Market data feed, Technology solutions और Financial education भी शामिल हैं।


SEBI [Securities and Exchange Board of India]

Securities and Exchange Board of India [SEBI]  की स्थापना 12 अप्रैल, 1992 को भारतीय अधिनियम और प्रावधानों के अनुसार की गई थी। SEBI का मुख्यालय मुंबई के Bandra Kurla Complex के Business district में है और इसके नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और अहमदाबाद में भी Regional office भी  हैं।

SEBI के अध्यक्ष को भारत सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है। SEBI के बाकि दो सदस्य जो केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अधिकारी होते है।  भारतीय रिज़र्व बैंक से भी एक सदस्य नियुक्त किया जाता है। 
शेष पाँच सदस्यों को भारत सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है, उनमें से कम से कम तीन Full time member होते है।

शेयरों बाजार के भाव में उतार-चढ़ाव क्यों आ जाता है?

यदि हम किसी व्यक्ति से Share-Market के बारे में पूछेंगे तो हमको एक बात जरूर देखने को मिलेगी कि सब एक बात जरूर कहेंगे Stock की कीमतें अक्सर घटती बढ़ती रहती हैं, कभी-कभी एक ही कारोबारी दिन में चौंकाने वाली मात्रा में मूल्य में लाभ कमाता है  

और शयद उसे अगली बार बहुत सारा घाटा भी सहना पड़े। क्या कभी आपने सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है। क्या ऐसा कोई जानबूझ कर करता है चालिये हम आपको बताते है।
किसी कंपनी के कामकाज, ऑर्डर मिलने जाने या छिन जाने पर, मन मुताबिक नतीजे बेहतर रहने, या घाटा होने पर भी शेयरों बाजार के भाव में उतार-चढ़ाव  आता है।
सबसे बुनियादी स्तर की बात करे तो उतार-चढ़ाव, बाजार में स्टॉक की supply और demand कीमत निर्धारित होता है।

अगर कोई कंपनी शेयर बाजार के  agreement से जुड़ी शर्त का पालन नहीं करती, तो उस कंपनी को SEBI, BSE/NSE लिस्ट से हटा देती है।
लिस्टेड कंपनी रोज कारोबार करती रहती है और उसकी position में रोज कुछ कुछ बदलाव होता रहता है, शायद इस के आधार पर भी मांग घटने-बढ़ने से उसके शेयरों की कीमतों में उतार-चढाव आता रहता है।

Share market में निवेश की शुरूआत कैसे करे?

जैसा कि मैंने आपको बताया कि यदि आप Share-Market में इन्वेस्ट करना चाहते है तो आपको हमेशा ट्रेडिंग ब्रोकर्स के माध्यम से ही शुरू करनी चाहिए। इसके क्या फायदे है मैं आपको पहले ही बता चुका हु।
ट्रेडिंग के लिए आपको सबसे पहले किसी ब्रोकर की मदद से Demat account खुलवाना होगा  इसके बाद आपको Demat account को अपने बैंक अकाउंट से लिंक करना होगा। और आपका बैंक अकाउंट savings account ही होना चाहिए। 

बैंक अकाउंट से आप अपने डीमैट अकाउंट में फंड ट्रांसफर कीजिये और ब्रोकर की मदद  से किसी कंपनी के शेयर खरीद लीजिये। इसके बाद वह शेयर आपके Demat account में ट्रांसफर हो जायेंगे। आप जब चाहें उसे किसी भी दिन में वो शेयर ब्रोकर के माध्यम से ही बेच सकते हैं।
और यदि आप चाहे तो आप स्वयं अपने बैंक जाकर Demat account खोल सकते है। ये बहुत ही आसान है। आखिर बैंक में Demat account कैसे खुलेगा? ये जानकारी आपको अपने बैंक से ही मिल जाएगी।

और आप ऑनलाइन भी Demat account ओपन कर सकते है मैं नीचे टॉप ऑनलाइन Demat account ओपन करने वाली कंपनी की लिस्ट दे रहा हु। आप इनकी मदद से  भी बहुत आसानी से Demat account खोल सकते हो।

  1. Zerodha
  2. Angel Broking
  3. Sharekhan    
  4. Edelweiss
  5. 5Paisa   
  6. Kotak Securities   
  7. IIFL
  8. Motilal Oswal
  9. ICICI Direct   
  10. Karvy

शायद आपको पता हो, विश्व के सबसे अमीर व्यक्तियों में शामिल Warren Buffett शेयर बाजार के एक्सपर्ट है। और शेयर बाजार (Stock Market) में ही निवेश कर अरबपति बने हैं।

कुछ महत्वपूर्ण बाते

    1. सबसे पहले इस विषय के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ले फिर आगे बढे।
    2. खुद से रिसर्च करे और एकदम सही जानकारी प्राप्त करे।
    3. Long-Term goals जरूर सेट करे।
    4. अपने रिस्क लेने की छमता को जरूर समझे।
    5. रिसर्च और प्लानिंग के साथ ही इस फील्ड में आगे बढे।
    6. इस फील्ड से जुडी छोटी से छोटी बातो को जरूर सीखे।
    7. अपने सभी पैसे एक ही शेयर को खरीदने में न लगाए।
    8. पहले शेयर मार्किट के बारे में सब कुछ जान ले फिर उसके बात में निवेश करे।
    9. किस कंपनी का शेयर बढ़ा, किस कंपनी का शेयर घटा ये जरूर जाने। आप economic times  जैसे न्यूज़ पेपर पढ़ सकते है और आप न्यूज़ चैनल की भी मदद ले सकते हो।


    निष्कर्ष:-

    आज हमने भी जाना कि "Share Market क्या है? कैसे निवेश करे?” हमने अलावा हमने  "शेयरों के भाव में उतार-चढ़ाव क्यों जाता है?, आखिर आप कैसे कर सकते हैं शेयर बाजार में निवेश की शुरूआत?"  के बारे में भी बात की। उम्मीद करते है कि आज कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।
    यदि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे। और कोई हमारे लिए सुझाव या प्रश्न हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

    Post a Comment

    और नया पुराने